262, Village – Korown, Sultanpur, UP- 228121 India.
+919354947355
info@haatnow.com

Category: Culture and Civilization

HaatNow •Produce • Sell • Grow

गांव का स्नेह-सत्कार

-डॉ. आशा लता पाण्डेय गाँव, गांव की माटी और माटी की सोंधी गंध….सब मेरी आंखों में, सांसों में रची-बसी है। गांव से बचपन की बहुत सी यादें जुड़ी हैं। बचपन में बहुत बार गांव में आना-जाना होता था। चाचा-चाची, काका-काकी, दादा-दादी वहां रहते थे। शहर से गांव पहुंचने पर बड़ा ही स्नेहमय स्वागत होता था।…
Read more

शहर की सड़कों से गांव के गलियारों तक

डा. अपर्णा धीर खण्डेलवाल अक्सर शहरवासियों का मानना है की गांव में रखा क्या है? और ऐसा होता भी है जब हम शहर की चकाचौंध और अपने शहरी लिबास में रहते हैं तो हम गांव की उन छोटी-छोटी बातों को अनदेखा कर देते हैं। ऐसा ही कुछ मेरे साथ भी हुआ जब मैं आज से…
Read more

गाँव : देश की धड़कन

Alok Kumar Dwivedi भारत गाँवों का देश माना जाता है। महात्मा गांधी के इस भाव को उनके वैचारिक अनुयायी आज भी स्वीकार करते हैं। उनके वैचारिकी में भारत का गाँव सुविधाविहीन, अशिक्षित, असंस्कारित एवं दिशाहीन होकर सुशिक्षित, संस्कारयुक्त, संपोष्यभाव को अपनाए हुए तथा जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के सक्षम रूप में उपस्थित होता…
Read more

बेटवा कै लड्डू

बलराम सिंह इ बात होए क़रीब सन १९९२ कै, जब हमय मासाचूसेट्ट्स यूनिवर्सिटी मॉ पढ़ावत क़रीब दुई साल भा रहा होए। वैसे तौ अमेरिका मॉ रहत हमका लगभग नौ साल होईगा रहा, लकिन विद्यार्थी जीवन कै बात कुछ और होथै, सब पढ़ाई लिखाई के काम मॉ लगा रहाथे,  एतना फ़ुरसत नाहीं मिलत कि कौनव सामाजिक…
Read more

मैंने गाँव देखा है…

श्रीमति प्रीति कौशिक मैंने गाँव देखा है.. जहाँ शहरों में हम ज़रूरत में खुद को अकेला पाते हैं, वहाँ गाँव में मैंने बड़ों से अपने, सर पे हाथ फेरते देखा है। मैंने गाँव देखा है..  जहाँ शहरों में ज़िन्दगी भागती जाती है, वहाँ गाँव में मैंने बुढ़ापा भागते देखा है। मैंने गाँव देखा है.. जहाँ…
Read more

ग्रामीण-समाज की व्यवस्था में रिश्तों की गहराई की झलक

डा. अपर्णा (धीर) खण्डेलवाल शहरवासियों की दृष्टि में गाँव एवम् ग्रामीणवासी सदैव ही सादा जीवन, सरल बोली, साधारण वेशभूषा, तथा सात्त्विक भोजन की छाप छोडे़ हुए है। मन में ऎसी ही छवि बिठाऐ हुए संयोगवश आज से लगभग चार वर्ष पहले मुझे भी एक गाँव में जाने का अवसर प्राप्त हुआ। मैं चर्चा कर रही…
Read more

कैसे गाँव ही विकास की इकाई तथा सभ्यता है?

बलराम सिंह अभी जब महामारी का समय आया, तब लोग गांव की तरफ भागने लगे, बहुत सारे लोग गांव की तरफ चले गए, क्योंकि लोगों को गांव एक सुरक्षित जगह लगती है, ऐसा मुझे लगता है। मैं भी एक गांव का रहने वाला हूँ, जोकि अयोध्या के पास है। हमारे गाँव का नाम बड़ा अजीब-सा…
Read more